Go Goa

Poolside 1 BHK Apartment in Resort

Siolim, Goa, India
Serene Siolim- Gateway to the pristine beaches of North Goa at Tropical Dreams Resort with Lush green surroundings Ground Floor across the biggest swimming pool in Goa is furnished with SplitAC Ref...
Vacation Rentals in Siolim
Hinduism is the Only Dharma in this multiverse comprising of Science & Quantum Physics.

Josh Schrei helped me understand G-O-D (Generator-Operator-Destroyer) concept of the divine that is so pervasive in the Vedic tradition/experience. Quantum Theology by Diarmuid O'Murchu and Josh Schrei article compliments the spiritual implications of the new physics. Thanks so much Josh Schrei.

Started this blogger in 2006 & pageviews of over 0.622 Million speak of the popularity.

Dhanyabad from Anil Kumar Cheeta

Pages

Wednesday, November 3, 2010

Nirjala {without water}/Bheem PANDAVA Ekadashi Jyeshtha Shukla Paksh... May - Jun

Nirjala {without water}/Bheem PANDAVA Ekadashi
Jyeshtha Shukla Paksh... May - Jun


 
Nirjala{without water} Ekadashi


Yudhishther asked to lord Krishna..... :"Hey Janaardan, please elaborate the ekadashi that falls on Jyeshtha Shukla Paksh."

Lord Krishna said:"Satyavatinandana ,profoundly religious Vyaasa ji will elaborate it, as he knows the scriptures very well."

Sage Vyasa ji said:One should not eat on both the ekadashis if the month,on the Dwadashi, one should worship Lord Keshava with flowers
after having a bath.After purification, one should offer food to the brahmins and afterwords eat himself."

Hearing this Bhima ji said" Hey wise father, please listen to me,King Yudhishther, mother Kunti,Draupadi,Arjun, Nakul, Sehdev, all of them do not eat anu fod on the
day of ekadashi and also suggest to me to do the same.But I tell them that I cannot endure hunger."

Hearing this Sage Vyasaji said: If you want to attain heaven and want to stay away from hell, then do not eat on the day of Ekadashi."

Bhimsen said again: Hey Judicious father of fathers, I am speaking the truth, even if I eat one meal in the day, I cannot keep the fast.How can I keep the fast for the whole day...!!!

There is a fire named "Vrikka" in my stomach , that keeps on burning all the time, and when I eat a whole lot, only then it gets pacified.Hence hey great sage I can only keep one fast in the whole year.
Please suggest to me only one fast, with which I can attain heaven, I will definately keep that fast ."

Vyasaji said :"Hey Bhim, keep the fast of the Ekadashi if Jyeshtha Shukla Paksh,without drinking any water.Only water that is allowed to use is for the mouthwash and for the "Aachmana", otherwise drinking the
water is prohibited in this fast.If one deserts water from sunrise of Ekadashi to the sunrise of Dwaadashi,only then this fast is considered complete."Hence on the Dwadashi, after having bath, and offering food and alms
to the brahmins, one should eat any food.The keeping of all the fasts of Ekadashi throughout the year is equivalent to keeping the fast of this Nirjala Ekadashi, there should not be any doubt about it.Lord Keshava, who wears, Shankha,
Chakra and Gadaa , told me: If one surrenders himself to me and keeps the fast of ekadashi, all of his sins are washed away."

"A person who keeps the fast of Ekadashi, he is not scared by the frightening ambassadors of death.Instead he is taken away by the soft natured ambassadors ,wearing yellow clothes, Sudarshan,to the Vaikuntha.Hence
one should keep this fast and pray to lord Sri Hari.Be it man or woman, even if he/she is guilty of committing a crime as huge as the size of a mountain,with the effect of this fast, his sin is washed away.
A person who does not drink water during this fast, he does a great holy karma, equivalent to giving alms of gold.It is Lord Krishna's statement that all the good karmas like bathing{purification},japa, yagna,charity,
all of them become disintegrable,A person attains Vaishnapada by keeping the fast of Nirjala ekadashi.Aperson who eats cereals on the day of ekadashi, he is like a demon, he is a sinner,he meets his fall after death.
People who have kept the fast will attain Vaikuntha and even if they are the greatest sinners,like drunkards, thieves,against their own Gurus,killers of the brahmins, they will get rid of their sins."

"hey son of Kunti, the pious people on Nirjala ekadashi,should worship lord Vishnu,and should give alms of a cow, or a cow made of butter[ghee].one should make brahmins content by giving them alms and offering them sweet dishes.
brahmins become happy by this and by that Lord Vishnu provides Moksha.Those who have kept this fast of Nirjala ekadashi have sent their 100 gone generations and 100 upcoming generations to Vaikuntha.One should do charity of clothes,
cereals, cow,water, bed ,Aasana,kamandalu, umberella.One who listens to this story or elaborates it, attains heaven too.In the morning after brushing the teeth one should say..
"For the happiness of lord Keshava I will not drink water today and will not eat anything, I will only use water for the aachamana."

"on the dwaadashi one should worship lord Vishnu, with incense, beautiful clothes,flowers and recite this mantra while giving alms of a pot....

देवदेव ह्रषीकेश संसारार्णवतारक ।
उदकुम्भप्रदानेन नय मां परमां गतिम्॥


Devadeva Rishikesh Sansaaraaranvataarak,
Udakumbhapradaanena naya maam paramam gatim."

It says hey Lord , Deva Rishikesh, you save people from the sea of samsaara{world},please deliver me by this charity of the pot."

"hence hey Bhima, one should keep the fast of Nirjala ekadashi of jyeshtha shukla paksh, without drinking any water.one should give charity of a pot along with sugar.By doing this one attains
bliss , and nearness of Lord Vishnu. On the dwaadashi one should eat food after offering to brahmins.One who keeps this fast which removes the sins, like this,he attains a pleassurable position,after getting rid to all the sins."

Hearing this Bhimasena ji started keeping this fast too. and hence this ekadashi became very famous as "Paandava ekadashi".





निर्जला एकादशी

युधिष्ठिर ने कहा: जनार्दन ! ज्येष्ठ मास के शुक्लपक्ष में जो एकादशी पड़ती हो, कृपया उसका वर्णन कीजिये ।

भगवान श्रीकृष्ण बोले: राजन् ! इसका वर्णन परम धर्मात्मा सत्यवतीनन्दन व्यासजी करेंगे, क्योंकि ये सम्पूर्ण शास्त्रों के तत्त्वज्ञ और वेद वेदांगों के पारंगत विद्वान हैं ।

तब वेदव्यासजी कहने लगे: दोनों ही पक्षों की एकादशियों के दिन भोजन न करे । द्वादशी के दिन स्नान आदि से पवित्र हो फूलों से भगवान केशव की पूजा करे । फिर नित्य कर्म समाप्त होने के पश्चात् पहले ब्राह्मणों को भोजन देकर अन्त में स्वयं भोजन करे । राजन् ! जननाशौच और मरणाशौच में भी एकादशी को भोजन नहीं करना चाहिए ।

यह सुनकर भीमसेन बोले: परम बुद्धिमान पितामह ! मेरी उत्तम बात सुनिये । राजा युधिष्ठिर, माता कुन्ती, द्रौपदी, अर्जुन, नकुल और सहदेव ये एकादशी को कभी भोजन नहीं करते तथा मुझसे भी हमेशा यही कहते हैं कि : ‘भीमसेन ! तुम भी एकादशी को न खाया करो…’ किन्तु मैं उन लोगों से यही कहता हूँ कि मुझसे भूख नहीं सही जायेगी ।

भीमसेन की बात सुनकर व्यासजी ने कहा : यदि तुम्हें स्वर्गलोक की प्राप्ति अभीष्ट है और नरक को दूषित समझते हो तो दोनों पक्षों की एकादशीयों के दिन भोजन न करना ।

भीमसेन बोले : महाबुद्धिमान पितामह ! मैं आपके सामने सच्ची बात कहता हूँ । एक बार भोजन करके भी मुझसे व्रत नहीं किया जा सकता, फिर उपवास करके तो मैं रह ही कैसे सकता हूँ? मेरे उदर में वृक नामक अग्नि सदा प्रज्वलित रहती है, अत: जब मैं बहुत अधिक खाता हूँ, तभी यह शांत होती है । इसलिए महामुने ! मैं वर्षभर में केवल एक ही उपवास कर सकता हूँ । जिससे स्वर्ग की प्राप्ति सुलभ हो तथा जिसके करने से मैं कल्याण का भागी हो सकूँ, ऐसा कोई एक व्रत निश्चय करके बताइये । मैं उसका यथोचित रुप से पालन करुँगा ।

व्यासजी ने कहा: भीम ! ज्येष्ठ मास में सूर्य वृष राशि पर हो या मिथुन राशि पर, शुक्लपक्ष में जो एकादशी हो, उसका यत्नपूर्वक निर्जल व्रत करो । केवल कुल्ला या आचमन करने के लिए मुख में जल डाल सकते हो, उसको छोड़कर किसी प्रकार का जल विद्वान पुरुष मुख में न डाले, अन्यथा व्रत भंग हो जाता है । एकादशी को सूर्योदय से लेकर दूसरे दिन के सूर्योदय तक मनुष्य जल का त्याग करे तो यह व्रत पूर्ण होता है । तदनन्तर द्वादशी को प्रभातकाल में स्नान करके ब्राह्मणों को विधिपूर्वक जल और सुवर्ण का दान करे । इस प्रकार सब कार्य पूरा करके जितेन्द्रिय पुरुष ब्राह्मणों के साथ भोजन करे । वर्षभर में जितनी एकादशीयाँ होती हैं, उन सबका फल निर्जला एकादशी के सेवन से मनुष्य प्राप्त कर लेता है, इसमें तनिक भी सन्देह नहीं है । शंख, चक्र और गदा धारण करनेवाले भगवान केशव ने मुझसे कहा था कि: ‘यदि मानव सबको छोड़कर एकमात्र मेरी शरण में आ जाय और एकादशी को निराहार रहे तो वह सब पापों से छूट जाता है ।’

एकादशी व्रत करनेवाले पुरुष के पास विशालकाय, विकराल आकृति और काले रंगवाले दण्ड पाशधारी भयंकर यमदूत नहीं जाते । अंतकाल में पीताम्बरधारी, सौम्य स्वभाववाले, हाथ में सुदर्शन धारण करनेवाले और मन के समान वेगशाली विष्णुदूत आखिर इस वैष्णव पुरुष को भगवान विष्णु के धाम में ले जाते हैं । अत: निर्जला एकादशी को पूर्ण यत्न करके उपवास और श्रीहरि का पूजन करो । स्त्री हो या पुरुष, यदि उसने मेरु पर्वत के बराबर भी महान पाप किया हो तो वह सब इस एकादशी व्रत के प्रभाव से भस्म हो जाता है । जो मनुष्य उस दिन जल के नियम का पालन करता है, वह पुण्य का भागी होता है । उसे एक-एक प्रहर में कोटि-कोटि स्वर्णमुद्रा दान करने का फल प्राप्त होता सुना गया है । मनुष्य निर्जला एकादशी के दिन स्नान, दान, जप, होम आदि जो कुछ भी करता है, वह सब अक्षय होता है, यह भगवान श्रीकृष्ण का कथन है । निर्जला एकादशी को विधिपूर्वक उत्तम रीति से उपवास करके मानव वैष्णवपद को प्राप्त कर लेता है । जो मनुष्य एकादशी के दिन अन्न खाता है, वह पाप का भोजन करता है । इस लोक में वह चाण्डाल के समान है और मरने पर दुर्गति को प्राप्त होता है ।

जो ज्येष्ठ के शुक्लपक्ष में एकादशी को उपवास करके दान करेंगे, वे परम पद को प्राप्त होंगे । जिन्होंने एकादशी को उपवास किया है, वे ब्रह्महत्यारे, शराबी, चोर तथा गुरुद्रोही होने पर भी सब पातकों से मुक्त हो जाते हैं ।

कुन्तीनन्दन ! ‘निर्जला एकादशी’ के दिन श्रद्धालु स्त्री पुरुषों के लिए जो विशेष दान और कर्त्तव्य विहित हैं, उन्हें सुनो: उस दिन जल में शयन करनेवाले भगवान विष्णु का पूजन और जलमयी धेनु का दान करना चाहिए अथवा प्रत्यक्ष धेनु या घृतमयी धेनु का दान उचित है । पर्याप्त दक्षिणा और भाँति-भाँति के मिष्ठान्नों द्वारा यत्नपूर्वक ब्राह्मणों को सन्तुष्ट करना चाहिए । ऐसा करने से ब्राह्मण अवश्य संतुष्ट होते हैं और उनके संतुष्ट होने पर श्रीहरि मोक्ष प्रदान करते हैं । जिन्होंने शम, दम, और दान में प्रवृत हो श्रीहरि की पूजा और रात्रि में जागरण करते हुए इस ‘निर्जला एकादशी’ का व्रत किया है, उन्होंने अपने साथ ही बीती हुई सौ पीढ़ियों को और आनेवाली सौ पीढ़ियों को भगवान वासुदेव के परम धाम में पहुँचा दिया है । निर्जला एकादशी के दिन अन्न, वस्त्र, गौ, जल, शैय्या, सुन्दर आसन, कमण्डलु तथा छाता दान करने चाहिए । जो श्रेष्ठ तथा सुपात्र ब्राह्मण को जूता दान करता है, वह सोने के विमान पर बैठकर स्वर्गलोक में प्रतिष्ठित होता है । जो इस एकादशी की महिमा को भक्तिपूर्वक सुनता अथवा उसका वर्णन करता है, वह स्वर्गलोक में जाता है । चतुर्दशीयुक्त अमावस्या को सूर्यग्रहण के समय श्राद्ध करके मनुष्य जिस फल को प्राप्त करता है, वही फल इसके श्रवण से भी प्राप्त होता है । पहले दन्तधावन करके यह नियम लेना चाहिए कि : ‘मैं भगवान केशव की प्रसन्न्ता के लिए एकादशी को निराहार रहकर आचमन के सिवा दूसरे जल का भी त्याग करुँगा ।’ द्वादशी को देवेश्वर भगवान विष्णु का पूजन करना चाहिए । गन्ध, धूप, पुष्प और सुन्दर वस्त्र से विधिपूर्वक पूजन करके जल के घड़े के दान का संकल्प करते हुए निम्नांकित मंत्र का उच्चारण करे :

देवदेव ह्रषीकेश संसारार्णवतारक ।
उदकुम्भप्रदानेन नय मां परमां गतिम्॥

‘संसारसागर से तारनेवाले हे देवदेव ह्रषीकेश ! इस जल के घड़े का दान करने से आप मुझे परम गति की प्राप्ति कराइये ।’

भीमसेन ! ज्येष्ठ मास में शुक्लपक्ष की जो शुभ एकादशी होती है, उसका निर्जल व्रत करना चाहिए । उस दिन श्रेष्ठ ब्राह्मणों को शक्कर के साथ जल के घड़े दान करने चाहिए । ऐसा करने से मनुष्य भगवान विष्णु के समीप पहुँचकर आनन्द का अनुभव करता है । तत्पश्चात् द्वादशी को ब्राह्मण भोजन कराने के बाद स्वयं भोजन करे । जो इस प्रकार पूर्ण रुप से पापनाशिनी एकादशी का व्रत करता है, वह सब पापों से मुक्त हो आनंदमय पद को प्राप्त होता है ।

यह सुनकर भीमसेन ने भी इस शुभ एकादशी का व्रत आरम्भ कर दिया । तबसे यह लोक मे ‘पाण्डव द्वादशी’ के नाम से विख्यात हुई ।

No comments:

Post a Comment

Popular Posts

Loading...

Search This Blog